Jobs haryana news
बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी
Jobs Haryana, IAS Success Story हर किसी की अपनी अलग-अलग प्रेरणात्मक कहानी होती है। ये कहानी है IAS बनने वाली हरियाणा के बाहदुरगढ़ की रहने वाली प्रीति हुड्डा (Preeti Hooda) की, जिनके पिता दिल्ली परिवहन निगम (DTC) में बस चलाते थे। प्रीति के मुताबिक जब उन्होंने अपने पिता को आईएएस बनने की ख़बर दी थी, उस
 
बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी

Jobs Haryana, IAS Success Story

हर किसी की अपनी अलग-अलग प्रेरणात्मक कहानी होती है। ये कहानी है IAS बनने वाली हरियाणा के बाहदुरगढ़ की रहने वाली प्रीति हुड्डा (Preeti Hooda) की, जिनके पिता दिल्ली परिवहन निगम (DTC) में बस चलाते थे। प्रीति के मुताबिक जब उन्होंने अपने पिता को आईएएस बनने की ख़बर दी थी, उस समय उनके पिता बस चला रहे थें। प्रीति साल 2017 में अपनी UPSC की परीक्षा में 288वीं रैंक प्राप्त की थी।

बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी

कहाँ से की हैं पढ़ाई?

प्रीति शुरू से ही पढ़ाई में अव्वल रही हैं। उन्होंने अपनी 10वीं की परीक्षा में 77% और 12वीं में 87% अंक प्राप्त की हैं। लक्ष्मी बाई कॉलेज दिल्ली से ही हिन्दी में अपना ग्रेजुएशन पूरा किया है। जिसमें उन्हें 76 प्रतिशत अंक मिले। अब वह जेएनयू से हिन्दी में पीएचडी कर रही है। उन्होंने बीबीसी हिन्दी से बातचीत के दौरान बताया कि वह हरियाणा के बहुत ही साधारण परिवार से आती है।

बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी

पापा का सपना था कि बेटी IAS बने

प्रीति ने कहा कि “जब मेरा UPSC का रिजल्ट आया तो मैंने पापा को फ़ोन किया। उस वक़्त मेरे पापा बस चला रहे थे। रिजल्ट सुनने के बाद पापा बोले:-‘शाबाश मेरा बेटा’ , जबकि मेरे पिता मुझे कभी शाबासी नहीं देते थे”।

बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी

प्रीति ने बताया था कि उनका इंटरव्यू लगभग 35 मिनट चला था, जिसमें करीब 30 सवाल पूछे गए थे। प्रीति ने अपना इंटरव्यू भी हिन्दी में ही दिया था और उनका विषय भी हिन्दी ही था। प्रीति अपने इंटरव्यू में 3 सवालों के जवाब नहीं दे पाई, लेकिन उन्होंने अपना कॉन्फिडेंस लूज नहीं होने दिया। उसके इंटरव्यू में भी जेएनयू से जुड़े सवाल ही पूछे गए थे।

बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी

इंटरव्यू के दौरान प्रीति से पूछा गया था कि:- आप जेएएनयू से पढ़ाई की हैं, इस यूनिवर्सिटी की इतनी निगेटिव इमेज लोगों के बीच क्यों हैं? तो इसके जवाब में प्रीति हुड्डा ने कहा कि:-“जेएनयू सिर्फ़ निगेटिव इमेज के लिए ही नहीं जानी जाती है। इसे भारत की सभी universities में फर्स्ट रैंक मिल चुकी है”।

प्रीति हुड्डा ने हिन्दी मीडियम से ही अपना पेपर दिया। इसके अलावा परीक्षा में उनका ऑप्शनल सब्जेक्ट भी हिन्दी ही था। उन्होंने अपना पूरा इंटरव्यू भी हिन्दी में ही दिया है।

बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी

यूपीएससी की तैयारी करने को लेकर प्रीति ने कहा कि लगातार 10 घंटे की तैयारी की बजाय आपको एक प्लानिंग के थ्रू अपनी पढ़ाई करनी होगी, थोड़ा सोच समझकर दिशा तय करके पढ़ाई करनी चाहिए। अपनी तैयारी को कभी भी बहुत ज़्यादा सीरियस दिमाग़ से मत लीजिए। तैयारी के साथ–साथ मस्ती भी ज़रूर करिए।

बस चालक की बेटी बनी IAS, परिणाम आया तो पापा चला रहे थे, सुनने के बाद जिंदगी में पहली बार बोले शाबाश-बेटा, जानिए पूरी कहानी

फ़िल्में देखिए, या फिर कुछ ऐसा ज़रूर कीजिए, जिससे आप रिलेक्स हो सकें और बहुत सारी किताबें पढ़ने की बजाय, सीमित तरीके से पढ़िए और उसे ही बार–बार पढ़े, जिससे आपकी कांसेप्ट पूरी तरह से क्लियर हो जाए।

ये भी पढ़ें-  देश सेवा का इस परिवार में है जबरदस्त जुनून, परिवार की पांचवी सदस्य बनी भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट

प्रीति कहती हैं, मैं बिल्कुल साधारण परिवार की हूँ और संयुक्त परिवार में पली-बढ़ी हूँ। जहाँ खासकर लड़कियों की शिक्षा के बारे में बहुत ध्यान नहीं दिया जाता है। हमारे समाज में ऐसा मानना है कि लड़की को ग्रेजुएशन कराने के बाद उसकी शादी कर दो। लेकिन मेरे माता–पिता कि सोच इससे अलग थी और उन्होंने मुझे उच्च शिक्षा दी और मेरा जेएनयू में एडमिशन कराया। उनकी इस सफलता के पीछे उनके मेहनत के साथ-साथ पूरे परिवार का भी सहयोग है, जिससे आज वह इस मुकाम तक पहुंच पाई हैं।