Jobs haryana news
बॉक्सिंग खिलाड़ी के असहाय पिता ने की खेल विभाग से न्याय की अपील, आखिर क्यों किया जा रहा हैं अन्याय
 
बॉक्सिंग खिलाडी के असहाय बाप ने की खेल विभाग से न्याय की अपील

हरिओम के पिता नरेश मोखरवाल - ये मेरा लड़का हरिओम है जो कि बॉक्सिंग का खिलाड़ी है। मैं कुम्हार जाति से संबंध रखता हूँ। मेरे बेटे ने भिवानी वेश्य कॉलेज से बीए तक की पढ़ाई की है और कम्प्यूटर कोर्स व हिंदी,अंग्रेजी की टाइपिंग भी सीख रखी है। आज इसका भविष्य अंधकारमय हो गया है क्यों कि ये पहले D ग्रुप वेटिंग लिस्ट में था। अब इसकी वेटिंग टुट गई है और सरकारी नौकरी की लिस्ट में इसका नाम आ गया है।

इस नौकरी के लिए हरिओम बॉक्सर पिछले एक महीने से हर रोज भिवानी खेल विभाग में खेल Gradation certificate बनवाने के चक्कर काट रहा है परन्तु अब तक हरिओम का Gradation certificate नहीं बना है। हरिओम मुक्केबाजी स्टेट हरियाणा व नेशनल में बहुत सी प्रतियोगिता में भाग ले चूका है और इन प्रतियोगिताओं में इसकी पोजीशन भी है। जिनकी प्रतियां आपके सामने है।

हरिओम के पिता नरेश मोखरवाल ने सवाल उठाया है कि क्या ये सभी खेल के certificate झूठे हैं!? इन प्रतियों में खेल certificate की verification भी मौजूद है। इनमें ये भी दिखा रखा है कि हरिओम कौन से कलर की ड्रेस पहन कर खेला था और कितने बाऊट लिए थे व किसके साथ खेला था। इसमें इसके बॉक्सिंग कोंच देवराज जी का नाम भी दर्शाता है। सभी प्रतियां आपके सामने मौजूद है।

नरेश मोखरवाल ने कहा कि इन प्रमाण पत्रों का निरीक्षण किया जा सकता है। भिवानी महेंद्रगढ़ लोकसभा के सांसद चौधरी धर्मवीर सिंह जी और अनेक सामाजिक संगठनों ने हरिओम को सम्मानित भी किया हुआ है। जिनके फोटो आपके सामने है l

मोखरवाल ने कहा कि  अगर ऐसे ही होनहार व मेहनती खिलाड़ियों के साथ ऐसा गलत होता रहा तो खिलाड़ियों का मनोबल टूट जाएगा और खेल संघ से विश्वाश हट जाएगा।

मोखरवाल ने भिवानी खेल विभाग सभी खेल अधिकारियों और सरकार के पदाधिकारियों से हाथ जोड़ कर प्रार्थना की है कि हरिओम बॉक्सर के साथ अन्याय मत करो। इसका भविष्य अंधकारमय मत करो। इसको इसका हक दे दो।  —एक मजबूर पिता :- नरेश मोखरवाल