Jobs haryana news
IPS RAVI MOHAN SAINI SUCCESS STORY: कम उम्र मे KBC मे 1 करोड़ जीते , फिर तीसरे प्रयास में UPSC पास कर बने IPS, जानिए RAVI MOHAN SAINI की सफलता की कहानी
 
IPS

IPS RAVI MOHAN SAINI SUCCESS STORY: UPSC की परीक्षा पास करना कोई बचो का खेल नहीं होता आईएएस वही बंता है जिसके मन मे कुछ कर गुजरने की होती है   टेलीविजन के मशहूर क्विज गेम शो कौन बनेगा करोड़पति (KBC) में अभी तक कई लोग करोड़पति बन चुके हैं, लेकिन क्या आप जानते है कि वर्ष 2001 में एक लड़के ने मात्र 14 वर्ष की उम्र में 1 करोड़ रुपये जीते थे। जिसका नाम रवि मोहन सैनी है, बाद में उन्होंने UPSC सिविल सर्विसेज एग्जाम पास किया और फिलहाल अभी गुजरात के पोरबंदर में पुलिस अधीक्षक (SP) के पड़ पर सेवा दे रहे हैं।

IPS

ये भी पढ़ें : https://jobsharyana.com/viralstory/this-electric-car-will-run-for-1200-km-on-full-charge-in-2/cid6211431.htm

रवि मोहन सैनी ने वर्ष 2001 में मात्र 14 साल की उम्र में कौन बनेगा करोड़पति जूनियर (KBC Junior) में हिस्सा लिए थे और अमिताभ बच्चन द्वारा पूछे गए सभी 15 सवालों के सही जवाब दे कर 1 करोड़ रुपये जीते थे। जिस वक्त रवि सैनी ने ‘कौन बनेगा करोड़पति जूनियर’ में हिस्सा लिया था, उस समय वह 10वीं क्लास में पढ़ रहे थे। रवि मोहन सैनी मूल रूप से राजस्थान के अलवर के निवासी हैं और उनके पिता नौसेना के रिटायर्ड अफसर हैं। पिता की पोस्टिंग हो जाने की वजह से उनकी स्कूली पढ़ाई आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम स्थित नौसेना पब्लिक स्कूल से पूरी हुई और एकेडमिक करियर में वह टॉपर रहे हैं।

ये भी पढ़ें : https://jobsharyana.com/viralstory/this-electric-car-will-run-for-1200-km-on-full-charge-in-2/cid6211431.htm


जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, 12वीं फाइनल करने के बाद रवि मोहन ने जयपुर स्थित महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज से MBBS किया। एमबीबीएस के बाद इंटर्नशिप के दौरान वह सिविल सर्विस में चयनित हो गए। रवि ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उनके पिता नेवी में कार्यरत थे और उन्हीं से प्रभावित होकर उन्होंने IPS का चुनाव किया। रवि मोहन सैनी साल 2012 में पहली बार UPSC एग्जाम में शामिल हुए थे

 और प्रारंभिक परीक्षा में सफल रहे, किन्तु मुख्य परीक्षा में असफल हो गए। फिर सैनी 2013 में फिर से UPSC का एग्जाम दिए और उन्हें भारतीय डाक एवं दूरसंचार विभाग में अकाउंट्स एंड फाइनेंस सर्विस के लिए चुना गया। लेकिन इससे वह सन्तुष्ट नही हुए और फिर से वर्ष 2014 में उन्होंने तीसरी बार UPSC का एग्जाम दिया और ऑल इंडिया 461वीं रैंक हासिल कर IPS अफसर बने।