Jobs haryana news
कई बार असफलता के बाद भी Meera K ने हासिल कर दिखाया लक्ष्य, सिविल सेवा के लिए छोड़ी थी लाखों की नौकरी
 
Success Story Of IAS Topper Meera K
Success Story Of IAS Topper Meera K

यूपीएससी में सफलता पाने के लिए लगातार सालों तक मेहनत करने की जरूरत होती है| आज आपको यूपीएससी (UPSC) सिविल सेवा परीक्षा 2020 में ऑल इंडिया रैंक 6 हासिल करने वाली मीरा (Meera k) की सफलता की कहानी बताएंगे, जिन्होंने सालों तक संघर्ष करने के बाद अपना लक्ष्य हासिल कर लिया| उन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने के बाद कुछ सालों तक नौकरी की और इसके बाद नौकरी छोड़कर यूपीएससी की तैयारी करने का फैसला किया| उन्हें कई बार असफलता मिली, लेकिन हार नहीं मानी और सिविल सेवा का सपना पूरा कर लिया| 

मीरा मूल रूप से केरल की रहने वाली हैं| इंटरमीडिएट के बाद उन्होंने गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज त्रिशूर से बीटेएक की डिग्री हासिल की| फिर उनकी अच्छे पैकेज पर नौकरी लग गई| कुछ समय तक उन्होंने नौकरी की और फिर सिविल सेवा की खातिर नौकरी छोड़ने का फैसला किया| वे कहती है कि बेहतर रणनीति के साथ तैयारी में जुटें और कड़ी मेहनत करें| पहले तीन प्रयासों में उन्हें असफलता मिली, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और अपने लक्ष्य की तरफ बढ़ती रहीं| उन्होंने चुनौतियों का डटकर मुकाबला किया और सिविल सेवा का सपना पूरा कर लिया| मीरा का मानना है कि असफलताओं से सबक लेकर आगे बढ़ेंगे तो निश्चित रूप से इसका फायदा मिलेगा|

मीरा ने सबसे पहले सिलेबस को समझा और अपना स्टडी मैटेरियल तैयार किया| वे कहती हैं कि आपको यूपीएससी के प्रीलिम्स एग्जाम की तैयारी पर फोकस करना चाहिए| इसके लिए आप करंट अफेयर्स को बेहतर बनाएं, इसके लिए नियमित रूप से न्यूज़पेपर पढ़ें| इसके अलावा अपना बेस मजबूत करने के लिए एनसीईआरटी की किताबें जरूर पढ़ें, खासकर भूगोल के लिए| प्रीलिम्स के रिवीजन के लिए छोटे-छोटे नोट्स जरूर बनाएं| आप अंत में ज्यादा से ज्यादा रिवीजन करें और आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस करें| 

अन्य लोगों को मीरा की सलाह 

मीरा का मानना है कि अगर आप यूपीएससी की तैयारी करना चाहते हैं, तो आपको लगातार बेहतर रणनीति के साथ आगे बढ़ना होगा| वे कहती हैं कि जब तक आप हर दिन इसके लिए प्रयास नहीं करेंगे तब तक आप अपनी मंजिल तक नहीं पहुंच पाएंगे| उनके मुताबिक कड़ी मेहनत, सही रणनीति, बीच-बीच में मनोरंजन भी जरूरी है , ज्यादा से ज्यादा रिवीजन, आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस और सकारात्मक रवैया सफलता के लिए काफी जरूरी होता है|