Jobs haryana news
IPS Officer Success Story: 6 साल में 12 बार लगी सरकारी नौकरी, ऐसे बने पटवारी से IPS अफसर, जानिए Prem Sukh Delu की संघर्ष भरी कहानी
 
ips prem sukh delu

IPS Officer Success Story कुछ लोग अपनी किस्मत खुद बनाते हैं. राजस्थान के बीकानेर में रहने वाले प्रेमसुख डेलू (Prem Sukh Delu) का जन्म एक किसान परिवार में हुआ था. भारत में सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) का क्रेज देखने लायक है और प्रेमसुख पर भी उसका गहरा असर था. सुख-सुविधाओं से वंचित रहने के बावजूद उन्होंने कड़ी मेहनत करके यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) पास कर ली और आईपीएस अफसर (IPS Officer) बन गए.

प्रेमसुख डेलू (Prem Sukh Delu) ने 6 सालों में 12 बार सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) हासिल की थी. उनके सपनों की पहली सीढ़ी पटवारी (Patwari) बनने से शुरू हुई थी. इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और लगातार आगे बढ़ते रहे.

ऊंट-गाड़ी चलाकर पिता चलाते थे खर्च

प्रेमसुख डेलू (Prem Sukh Delu) का जन्म किसान परिवार में हुआ था और उनके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी. इनके पिता ऊंटगाड़ी चला कर लोगों का सामान एक जगह से दूसरी जगह ले जाने का काम करते थे. प्रेम बचपन से ही अपने परिवार को गरीबी से बाहर निकालना चाहते थे और इसके लिए उनका पूपा ध्यान सिर्फ पढ़ाई पर ही रहा.

Ahmedabad IPS From Rajasthan DCP Premsukh Delu's Success Story

गोल्ड मेडल से हुई शुरुआत     
टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रेमसुख डेलू (Prem Sukh Delu) ने 10वीं तक की पढ़ाई अपने गांव के सरकारी स्कूल से की थी. फिर आगे की पढ़ाई उन्होंने बीकानेर के राजकीय डूंगर कॉलेज से पूरी की. इतिहास में एमए करने के साथ ही वे गोल्ड मेडलिस्ट (Gold Medalist) भी रहे. उन्होंने इतिहास में यूजीसी-नेट (UGC-NET) और जेआरएफ (JRF) की परीक्षा भी पास की थी

पटवारी के साथ किया मास्टर्स
प्रेमसुख डेलू (Prem Sukh Delu) के बड़े भाई राजस्थान पुलिस में कॉन्स्टेबल हैं. उन्होंने ही प्रेम को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए प्रेरित किया था. साल 2010 में ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद प्रेम ने पटवारी (Patwari Exam) की भर्ती के लिए आवेदन किया और सफल हो गए. तब तक वे अपनी क्षमताओं को समझने लगे थे. पटवारी की नौकरी करते हुए उन्होंने मास्टर्स की डिग्री हासिल कर ली और नेट भी पास कर लिया.

एक के बाद एक सरकारी नौकरी में सफलता

पटवारी बनने के बाद प्रेमसुख डेलू (Prem Sukh Delu) ने राजस्थान ग्राम सेवक परीक्षा में दूसरी रैंक हासिल की. इसके बाद उन्होंने असिस्टेंट जेलर की परीक्षा में पूरे राजस्थान में पहले नंबर पर रहे. जेलर के पोस्ट पर ज्वाइन करने से पहले ही सब-इंस्पेक्टर की परीक्षा का परिणाम भी आ गया और उनका सेलेक्शन हो गया. इसके बाद भी वह नहीं रुके और बीएड परीक्षा पास करने के साथ ही नेट भी क्लियर किया. इसके बाद उन्हें कॉलेज में लेक्चरर का पद मिल गया. इसके बाद उन्होंने सिविल सर्विसेज परीक्षा देने का फैसला किया.

Meet patwari-turned-IPS officer Prem Sukh Delu, who got 12 government jobs  in 6 years

दूसरे प्रयास में ही बने आईपीएस

कॉलेज में पढ़ाने के साथ ही प्रेमसुख डेलू (Prem Sukh Delu) उन्होंने पढ़ाई जारी रखी और राजस्थान प्रशासनिक सेवाओं के तहत तहसीलदार के पद पर चयन हो गया. तहसीलदार के पद पर रहते हुए उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी शुरू की. नौकरी के बाद बचे हुए समय में प्रेम पढ़ाई करते थे और साल 2015 में उन्होंने दूसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा क्लियर कर ली. उनका ऑल इंडिया में 170वां रैंक आया और आईपीएस बनने में सफल रहे. उन्हें गुजरात कैडर मिला और उनकी पहली पोस्टिंग गुजरात के अमरेली में एसीपी के पद पर हुई.