Jobs Haryana

IAS officer Simi Karan Success Story: 22 साल की उम्र में IAS बनी ये लड़की, कुछ ऐसा है IIT से UPSC तक का सफर

 | 
IAS officer Simi Karan Success Story

IAS Success Story: लोक संघ सेवा आयोग की सिविल सर्विस परीक्षा (Civil Cervice Exam) को सबसे कठीन परीक्षाओं में से एक माना जाता है और इसकी तैयारी के लिए स्टूडेंट्स को काफी फोकस करना पड़ता है. हालांकि कुछ स्टूडेंट्स ऐसे भी होते हैं जो अन्य कामों के साथ यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exam) भी क्लियर कर लेते हैं. ऐसी ही कहानी ओडिशा की रहने वाली सिमी करन (Simi Karan) की है, जिन्होंने आईआईटी व यूपीएससी परीक्षा एक साल में ही क्लियर कर लिया और पहले प्रयास में ही सिविल सर्विस परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बन गईं.

Attempting CSE? UPSC All India Rank 31 Shares 8 Critical Tips For The Last  4 Months

12वीं में रही थीं स्टेट टॉपर

मूल रूप से ओडिशा की रहने वाली सिमी करन (Simi Karan) का पूरा बचपन छत्तीसगढ़ के भिलाई में बीता और अपनी शुरुआती पढ़ाई भी यहीं से की. सिमी के पापा डीएन करन भिलाई स्टील प्लांट में काम करते हैं और उनकी मां सुजाता भिलाई के दिल्ली पब्लिक स्कूल में टीचर हैं. सिमी ने 12वीं तक की पढ़ाई भिलाई कि दिल्ली पब्लिक स्कूल से ही की और बारहवीं में 98.4 प्रतिशत नंबर लाकर पूरे स्टेट में टॉप किया था.

Simi Karan IAS (@Simikaranias) / Twitter

12वीं के बाद आईआईटी में एडमिशन

DNA की रिपोर्ट के अनुसार, सिमी करन (Simi Karan) की शुरुआत में सिविस सर्विस में जाने की कोई योजना नहीं थी और इसलिए उन्होंने 12वीं के बाद आईआईटी का एंट्रेंस दिया. इसके बाद उनका सेलेक्शन आईआईटी बॉम्बे के लिए हुआ और वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने लगीं.

कैसे किया सिविल सर्विस में जाने का फैसला?

इंजीनियरिंग के दौरान इंटर्नशिप के वक्त सिमी करन (Simi Karan) पास के स्लम एरिया में बच्चों को पढ़ाने गईं तो उनके मन में लोगों की मदद करने का विचार आया, लेकिन वह ऐसा नहीं कर पा रही थीं. इसके बाद उनके मन में किसी ऐसे फील्ड को ज्वॉइन करने का विचार आया, जिसके जरिए वह लोगों की मदद कर सकें. फिर उन्होंने सिविल सर्विस में जाने का फैसला किया.

IAS at 22: UPSC CSE Topper Shares How to 'Divide & Conquer' Syllabus

इस तरह की यूपीएससी एग्जाम की तैयारी

सिमी करन (Simi Karan) ने इंजीनियरिंग के आखिरी साल में यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exam) की तैयारी शुरू की और सेल्फ स्टडी करने का फैसला किया. सिमी कहती हैं कि उन्होंने सबसे पहले टॉपर्स के इंटरव्यू देखें और इंटरनेट की सहायता से अपने लिए किताबों की लिस्ट तैयार की. तैयारी के लिए जो स्टैंडर्ड बुक्स आती हैं, उनका चुनाव किया और हमेशा इस बात का ध्यान रखा कि किताबें सीमित रखकर बार-बार रिवीजन करना है. तैयारी के लिए उन्होंने यूपीएससी के सिलेबस को छोटे-छोटे हिस्सों में कनवर्ट कर लिया, ताकि सिलेबस बोझ ना बने. उनका कहना है कि एग्जाम की तैयारी के लिए ज्यादा से ज्यादा रिविजन जरूरी है.

एक ही साल में पास की IIT और UPSC परीक्षा

सिमी करन (Simi Karan) ने बिना कोचिंग ज्वाइन किए सेल्फ स्टडी कर पहले ही प्रयास में यूपीएससी एग्जाम पास कर लिया. सिमी बताती हैं कि आईआईटी मुंबई से उनका ग्रेजुएशन मई 2019 में खत्म हुआ और जून में यूपीएससी की परीक्षा थी. उनके पास फाइनल तैयारी के लिए बहुत कम समय था, लेकिन कड़ी मेहनत के साथ स्मार्ट तरीके से की गई पढ़ाई काम आई और पहले प्रयास में ही यूपीएससी एग्जाम पास कर लिया.

सिर्फ 22 साल की उम्र में बनीं आईएएस अफसर

सिमी करन (Simi Karan) ने यूपीएससी की सिविल सर्विसेज एग्जाम-2019 (UPSC CSE 2019) में ऑल इंडिया में 31वीं रैंक हासिल की. सिमी महज 22 साल की थीं, जब उन्होंने सिविल सर्विस की परीक्षा पास की और आईएएस अफसर बनीं.

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like