Jobs haryana news
IAS Kajal Jwaala Success Story: पति ने संभाली रसोई तो, पत्नी ने UPSC की तैयारी कर 28वी रैंक के साथ कैसे बनी IAS, पढिए KAJAL JWAALA की सफलता की कहानी
 
IAS

IAS Kajal Jawaala Success story: लोग आईएएस बनने के लिए घंटों पढ़ाई करते हैं। इसके लिए घर से बाहर जाकर कोचिंग करते हैं। तब जाकर सफलता मिलती है। लेकिन कुछ महिलाएं ऐसी भी है जो 9 घंटे की नौकरी, शादीशुदा जिंदगी के बावजूद अपना आईएएस बनने का सपना पूरा करती हैं।

IAS

आज हम एक ऐसी महिला की कहानी लेकर आए हैं जो 9 घंटे की नौकरी, शादीशुदा जिंदगी और सेल्फ स्टडी के दम से अपना आईएएस बनने का सपना पूरा किया।


 
वैसे तो जीवन साथी के प्रेम, त्याग और सहयोग की लाखों कहानियां अक्सर ही सुनने को मिल जाती हैं। कहावत भी कही जाती है कि एक सफल आदमी के पीछे एक औरत का हाथ होता है।

लेकिन कई बार एक औरत की सफलता के पीछे एक सपोर्टिंग मैन की जरूरत होती है। यह सपोर्टिंग मैन पिता के रोल में हो सकता है या फिर पार्टनर के रोल में भी हो सकता है।

ऐसे सैकड़ों उदाहरण है जब एक पति ने अपनी पत्नी की कामयाबी के लिए काफी मेहनत की। आज की यह दिलचस्प कहानी भी कुछ इस तरह से ही है। पत्नी को अफसर बनाने के लिए पति ने कोई कसर नहीं छोड़ी। जिद, जुनून और किस्मत सब ने साथ दिया और महिला आखिरकार अफसर बन गई।

काजल ज्वाला का परिचय –
काजल ज्वाला हरियाणा राज्य के शामली जिले से ताल्लुक रखने वाली अधिकारी हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा यहीं पर हुई है।

काजल ने इलेक्ट्रॉनिक एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल की है। काजल ने अपने इंजीनियरिंग की पढ़ाई मथुरा के इंजीनियरिंग कॉलेज से की है।

काजल बनना चाहती थी चिकित्सक –
इंजीनियरिंग करने के बाद काजल ज्वाला को 23 लाख रुपए पैकेज वाली नौकरी मिल गई थी। यह नौकरी उन्हें विप्रो में इंजीनियरिंग के तुरंत बाद ही मिल गई थी।

लेकिन उनकी ख्वाहिश चिकित्सक बनने थी। जो वह पूरा नहीं कर पाई। तब उन्होंने सिविल सर्विस ज्वाइन करके एक ऑफिसर बनने का सपना देखा।

बड़ी कंपनी में कर दी थी नौकरी :-
काजल ज्वाला सिविल सर्विस परीक्षा में 28 वीं रैंक हासिल की है। इसके पहले वह 9 साल तक मल्टीनेशनल कंपनी में फुल टाइम जॉब भी कर चुकी हैं।

काजल का सालाना पैकेज 23 लाख से भी अधिक था। काजल आईएएस बनना चाहती थी और देश की सेवा करना चाहती थी।


 
शादीशुदा जिंदगी और नौकरी के साथ तालमेल बनाना एक चुनौतीपूर्ण काम होता है। लेकिन काजल ज्वाला ने इन सभी चीजों के बीच तालमेल बनाया और परीक्षा की तैयारी जारी रखी।

रोहतक में हुई है शादी :-

काजल ज्वाला की शादी 2016 में हो गई। उनके पति आशीष मलिक हरियाणा से संबंध रखते हैं। आशीष दिल्ली में अमेरिकी एंबेसी में कार्यरत थे।

काजल ने अपनी सफलता में अपने पिता तथा अपने पिता की महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में बताया। परिवारिक सदस्यों का हमेशा काजल को सपोर्ट रहा।

शादी के बाद काजल को पारिवारिक सदस्यों का सहयोग मिला। जिस वजह से वह नौकरी और शादी के बीच तालमेल बना सकी और सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी self-study से कर अपना सपना पूरा करने में कामयाब हुई।

लगातार मिल रही असफलता ही बना सफलता का मंत्र –

काजल ज्वाला के अनुसार आईएएस के लिए प्रारंभिक परीक्षा में लगातार मिल रही असफलता ही उनकी सफलता का मंत्र बन गया था। काजल कहती हैं कि प्रारंभिक असफलताओं ने उनके हौसलों को नहीं तोड़ा बल्कि इससे उनके जज्बे में बढ़ोतरी हुई।

उनका हौसला लगातार बढ़ता गया। एक इंटरव्यू के दौरान काजल ने बताया कि उनके लिए वक्त की कमी एक बड़ी चुनौती थी। लेकिन उन्होंने खुद पर भरोसा रखा।


 
कोचिंग का सहारा नही लिया। काजल ने सेल्फ स्टडी करने का फैसला किया। अंततः काजल ने सेल्फ स्टडी के दम से 28 वीं रैंक के साथ यूपीएससी परीक्षा पास कर ली।

ऐसे की परीक्षा की तैयारी –

यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी का अनुभव काजल ज्वाला ने साझा करते हुए बताया कि वह यूपीएससी की तैयारी के लिए सिलेबस को आधार बनाई।

वह कहती है यूपीएससी का सिलेबस सागर की तरह है। आपको अपडेट रहना जरूरी है। इसलिए रोजाना न्यूज़पेपर जरूर पढ़ें। काजल के अनुसार इससे खुद का विचार बनाने में मदद मिलती है।

काजल ज्वाला कहती है कि यूपीएससी परीक्षा को पास करने के लिए हर चरण में अलग अलग रणनीति बनानी पड़ती है। प्रारंभिक परीक्षा में ज्यादा से ज्यादा सूचना और जानकारी चाहिए। मुख्य परीक्षा में हर टॉपिक का ज्ञान होना जरूरी है।


 
काजल ने यूपीएससी की तैयारी के लिए कोचिंग को ज्वाइन नहीं किया। सेल्फ स्टडी से उन्होंने सफलता हासिल की है। इस दौरान वह परिवार की तमाम जिम्मेदारियां भी निभाई।

थोड़ा वक्त मिलने पर वह पढ़ाई करती थी। लगातार पढ़ाई करने के चलते उन्हें सफलता मिल पाई है। साल 2018 में काजल ने यूपीएससी का एग्जाम दिया था और उसमें उन्हें 28 वीं रैंक मिली।