Jobs haryana news
SUCCESS STORY: हरियाणा की बेटी का ISRO में हुआ सिलेक्शन, साइटिस्ट बन करेगी देश के लिए खोज
 
SUCCESS STORY

SUCCESS STORY: जब हौसला बना लिया ऊंची उड़ान का ,फिर देखना फिजूल है कद आसमान का इस कहावत को हरियाणा की बेटियां सच करने में लगी हुई है.एक ऐसी ही उपलब्धि इंद्री निवासी सुरभि ने हासिल की है.करनाल से कल्पना चावला के बाद इंद्री निवासी सुरभि का चयन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में हुआ है. सुरभि ने अपनी कड़ी मेहनत और लगन के बलबूते पर यह सफलता हासिल की है.इस उपलब्धि के बाद से सुरभि के घर में जश्न का माहौल है. सुरभि के माता-पिता भी अपनी बेटी की इस उपलब्धि पर काफी गर्व का अनुभव कर रहे हैं.

जानिए सुरभि ने क्या कहा

आपको बता दें कि सुरभि ने जानकारी दी है कि उसने वाईएससी यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रॉनिक्स कम्युनिकेशन में बीटेक की शिक्षा प्राप्त की है जिसके बाद गेट परीक्षा की तैयारी करती रही और कुछ समय बाद उसने टीसीएस कंपनी में नौकरी की. उसके बाद उसका चयन बीएसएनल में जेई के पद पर हो गया. किंतु उनके मन में कुछ और बड़ा करने की ख्वाहिश थी.

 सुरभि के मुताबिक जब इसरो ने एक साथ 100 सैटेलाइट लॉन्च किए थे. तभी से उसके मन में इसरो के साथ काम करने की इच्छा उत्पन्न हो गई थी और आज उसकी मेहनत रंग लाई इसरो की प्रतियोगिता परीक्षा में उनका परिणाम ऑल इंडिया रैंक 8 आई है. एक साइंटिस्ट के रूप में सुरभि का चयन इसरो में हो गया है.

सुरभि को अभिभावकों का मिला पूरा सहयोग

सुरभि ने अपनी इस उपलब्धि का पूरा श्रेय अपने माता-पिता को दिया है. सुरभि ने बताया की उसके अभिभावकों ने उसका पूरी तरह से सहयोग किया है उस पर पूरा भरोसा जताया जिसका परिणाम आज सभी के सामने हैं. सुरभि ने कहा कि कड़ी मेहनत से हर लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है बस खुद पर भरोसा रखें तथा निरंतर प्रयास करते रहने से सफलता जरूर हासिल होती है.

यह भी पढ़ें: https://jobsharyana.com/viralstory/bring-home-lpg-cylinder-early-this-makar-sankranti-for-rs/cid6223933.htm

सुरभि के पिता ने क्या कहा

सुरभि के पिता का नाम बलदेव राज और उनकी माता का नाम वीनू है. उन्होंने बताया कि उनको अपनी बेटी पर पूरा भरोसा था कि वह अपने इस लक्ष्य को अपनी कड़ी मेहनत के बल पर जरुर हासिल करेगी. साथ ही उन्होंने यह कहा कि आज उसने यह साबित कर दिया है कि सच्ची लगन व मेहनत की बदौलत कितना भी मुश्किल कार्य क्यों ना हो पूरा किया जा सकता है. सुरभि की माता ने अपनी बेटी की सफलता में अपने सतगुरुओ का आशीर्वाद भी बताया है.

फूल मालाएं तथा बुके देकर किया स्वागत

बता देखी निरंकारी मिशन के इंद्री संयोजक महासिंह संजय बजाज ने सुरभि को ये सफलता हासिल करने पर शुभकामनाएं दी है. उन्होंने कहा कि सुरभि ने अपने परिवार के साथ अपने क्षेत्र का नाम भी रोशन किया है. अच्छे संस्कार में माता-पिता के आशीर्वाद से सफलता अवश्य प्राप्त होती है. सफलता हासिल करने के लिए सच्ची निष्ठा व मेहनत से जो भी कार्य किया जाता है. उसमें अवश्य ही सफलता हासिल होती है. इसरो में चयन होने के बाद शहर वासियों ने तथा रिश्तेदारों ने फूल मालाएं तथा बुके देकर सुरभि का स्वागत भी किया.