10वीं फैल ये शख्स हर साल कमाता है 600 करोड़, कभी घर खर्च चलाने के लिए रेलवे स्टेशन पर बेचे थे संतरे

Jobs Haryana, Success Story Of Pyare Khan 

ज्यादातर आपने फिल्मों में ही देखा होगा की एक युवक गरीब परिवार में पैदा होता है और एक दिन करोड़ो का मालिक बन जाता है। बहुत से लोगों ने अपने मेहनत और लगन से ऐसा करके भी दिखाया है।

आज हम आपको एक ऐसे ही शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने झुग्गी झोपड़ी में जिंदगी गुजारने, पाई-पाई को मोहताज होने और रेलवे स्टेशन पर संतरा बेचने से लेकर करोड़ों की कम्पनी खड़ी करने तक का सफर तय किया है। आज हम जिसकी कामयाबी के बारें में बताने जा रहे है उनका नाम प्यारे खान हैं जो मूलरूप से महाराष्ट्र के नागपुर के रहने वाले हैं प्यारे खान की सक्सेस स्टोरी काफी प्रेरणादायी है।

एक इंटरव्यू के दौरान प्यारे खान ने बताया कि इनका जन्म झुग्गी झोपड़ी में हुआ। मां किराना की दुकान चलाती थी। पिता गांव-गांव जाकर कपड़े बेचते थे। जब मैंने होश संभाला तो घर की खराब आर्थिक की स्थिति को देखते हुए रेलवे स्टेशन पर संतरे बेचना शुरू कर दिया। इस बीच प्यारे खान ने पढ़ाई भी जारी रखी, मगर दसवीं पास नहीं कर पाने के कारण स्कूल से मोह छूट गया। फिर मां के गहने बेचकर 11 हजार रुपए का डाउन पेमेंट दिया और ऑटो खरीदा। अब ऑटो से संतरे बेचने लगे थे। यह सिलसिला वर्ष 2001 तक चला।

प्यारे खान कहते हैं कि वर्ष 2001 के बाद लगा कि कुछ बड़ा करना चाहिए, मगर दिक्कत यह थी कि पैसे नहीं थे। रिश्तेदार से 50 हजार उधार मांगे तो वह घर के कागज रखवाना चाहता था। फिर बैंकों से लोन के लिए चक्कर काटे। घर स्लम एरिया में होने के कारण कोई बैंक लोन नहीं दे रहा था। आखिर वर्ष 2004 में आईएनजी वैश्य बैंक से 11 लाख का लोन मिला।

बैंक से 11 लाख का लोन मिलने के बाद प्यारे खान ने उन पैसों से ट्रक खरीदा, जिसे नागपुर अहमदाबाद के बीच चलाते थे। इन्होंने लगता था कि अब किस्मत पलटने वाली है, मगर छह माह में ही ट्रक का एक्सीडेंट हो गया। रिश्तेदार व दोस्त प्यारे खान को ट्रांसपोर्ट का धंधा छोड़ने की सलाह देने लगे थे, मगर प्यारे खान ने हिम्मत नहीं हारी।

ट्रक एक्सीडेंट के बाद प्यारे खान ने उसकी मरम्मत करवाई और फिर से उसे सड़क पर लेकर आए। बैंकों से आग्रह करके लोन की किश्त देरी से दी। कुछ समय बाद प्यारे खान का धंधा पटरी पर लौट आया। वर्ष 2007 में अश्मी रोड ट्रांसपोर्ट नाम से अपनी कम्पनी बनाई।

अब प्यारे खान की कम्पनी अश्मी रोड ट्रांसपोर्ट को काम मिलना शुरू हो गया। ट्रक और स्टाफ भी बढ़ने लगे। वर्ष 2013 में भूटान कुछ सामान लेकर जाना था। दिक्कत यह थी कि रास्ते में एक दरवाजा था, जो साढ़े 13 फीट ऊंचा था। जबकि ट्रक की ऊंचाई साढ़े 17 फीट हो रही थी। ऐसे में भारत के अधिकांश ट्रांसपोर्ट वालों ने वो काम लेने से मना कर दिया था।

​प्यारे खान ने उस काम को चैलेंज के रूप में लिया। खुद भूटान गए और वो दरवाजा देखा। फिर तय किया कि उनकी कम्पनी अश्मी रोड ट्रांसपोर्ट का ट्रक यह सामान लेकर भूटान जाएगा। प्यारे खान तरकीब लगाई और जब ट्रक उस दरवाजे के नीचे उतनी ही जमीन खोदी गई जितनी में ट्रक से आसानी से निकल सके।

भूटान वाला यह काम सफलतापूर्वक करने के बाद प्यारे खान की कम्पनी के मानों पंख लग गए। भूटान के साथ-साथ नेपाल और दुबई तक में प्यारे खान की कम्पनी के ट्रक ट्रांसपोर्ट का काम कर रहे हैं। कम्पनी में अब 250 ट्रक हो चुके हैं। 700 से ज्यादा कर्मचारी हैं। सालाना टर्न ओवर 600 करोड़ तक पहुंच चुका है।

10वीं फैल ये शख्स हर साल कमाता है 600 करोड़, कभी घर खर्च चलाने के लिए रेलवे स्टेशन पर बेचे थे संतरे

Scroll to Top