Haryana Dc Rate Vacancy

HARYANA DC RATE JOBS

WWW.JOBSHARYANA.COM

HARYANA JOBS PORTAL

हरियाणा के रोहताश ने फतेह किया किलिमंजारो, 24 घंटे पर्वत की चोटी पर रहे, सांझा किया अपना अनुभव

Jobs Haryana, Success Story of Mountaineer

हरियाणा के पर्वतारोही रोहताश खिलेरी ने अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो को फतेह कर जिले का मान बढ़ा दिया है। उनके साथ पर्वतारोही अनु यादव भी गई थीं।

hisar mountainer

वहीं रोहताश चोटी पर 24 घंटे बिताने का रिकॉर्ड बनाने के लिए रूके जो उन्होंने रिकॉर्ड बना दिया है। 24 घंटे बाद भी जब वे नीचे नहीं उतरे तो रेस्क्यू टीम ने उन्हें ढूंढना शुरू कर दिया। सोमवार देर रात वे सही सलामत नीचे उतर आए।

mountainer1

हिसार के गांव मलापुर निवासी पर्वतारोही रोहताश खिलेरी ने विद्युत नगर निवासी अनु यादव के साथ किलिमंजारो को फतेह किया। रोहताश खिलेरी माउंट एवरेस्ट को भी फतेह कर चुके हैं। अनु यादव फतेहाबाद के बुवान गांव की निवासी है और पिछले लंबे समय से हिसार विद्युत नगर में अपने परिवार के साथ रह रही है, जहां उनके पिता ओमबीर यादव विद्युत विभाग में कार्यरत हैं।

mountainer

अनु यादव के अनुसार उन्होंने 17 मार्च को किलिमंजारो नेशनल पार्क से माउंट किलिमंजारो की चढ़ाई शुरू की थी। 19 मार्च को वे दोपहर 2 बजकर 10 मिनट पर कीबो हट पहुंच गए थे जो 4720 मीटर की ऊंचाई पर है। वहां पर उनका सिरदर्द होने लगा। इस पर कुछ समय आराम करके हमने रात करीब डेढ़ बजे फिर से माउंट किलिमंजारो की चढ़ाई शुरू की। करीब 5681 मीटर की ऊंचाई पर गिलमंस पॉइन पर उनकी तबीयत काफी खराब हो गई।

hisar mountainer

20 मार्च दोपहर को अफ्रीका के टाइम अनुसार दो बजे तक हम दोनों 5756 मीटर ऊंचाई पर स्टेला प्वाइंट तक ही पहुंच पाए। उस समय शाम होने को थी और मौसम भी खराब था, इसलिए हमने वहीं पर रुकने का निर्णय लिया। 21 मार्च सुबह 9 बजकर 40 मिनट पर हम माउंट किलिमंजारो की अंतिम चढ़ाई के लिए निकले।

mountainer2

अफ्रीका के टाइम 11 बजकर 45 मिनट पर हम दोनों चोटी के शिखर पर पहुंचे और वहां तिरंगा लहराया। हमारा प्रयास था कि हमें चोटी पर 24 घंटे रुककर नया रिकॉर्ड बनाना है। मगर उनकी तबीयत बहुत ज्यादा खराब थी, जिस कारण वे शिखर पर रुकने में सक्षम नहीं थी। इस कारण उन्होंने नीचे जाने का निर्णय लिया।

mountainer

रोहताश ने कहा कि अगर वे अभी नहीं रुके तो उन्हें माउंट एवरेस्ट पर 24 घंटे रुकने की भी अनुमति नहीं मिलेगी और वे कभी यह रिकॉर्ड नहीं बना सकेंगे।  उन्होंने अनु को गाइड के साथ नीचे भेज दिया और वे वहीं पर रुक गए। इसके बाद उनका कुछ पता नहीं चला। रेस्क्यू टीम ने देर रात उन्हें ढूंढ निकाला।

हरियाणा के रोहताश ने फतेह किया किलिमंजारो, 24 घंटे पर्वत की चोटी पर रहे, सांझा किया अपना अनुभव

Scroll to Top