Jobs haryana news
मारुति के बाद हरियाणा में लगेगी रेल फैक्ट्री, लाखों युवाओं को मिलेंगे रोजगार के अवसर
 
Rail factory will run in Haryana after Maruti

आने वाले कुछ सालों के भीतर हरियाणा में युवाओं के लिए रोजगार के कई दरवाजे खुलने जा रहे हैं। राज्य में जहां प्रदेश के युवाओं के लिए प्राईवेट नौकरियों में आरक्षण की व्यवस्था कर दी गई है, वहीं कई बड़े उद्योगों को भी स्थापित करने का काम तेज गति से चल रहा है। मारूति उद्योग को सोनीपत में 900 एकड़ जमीन देने के साथ ही ग्रॉसिम उद्योग को भी फैक्ट्री लगाने के लिए जमीन उपलब्ध करवाने के फैसले को मंजूरी प्रदान कर दी गई है। इसके साथ ही अब राज्य में एक बड़ी रेल फैक्ट्री लगाने की तैयारी हो रही है।

इस फैक्ट्री के लिए रोहतक में जमीन देने की योजना है। बताया गया है कि इस रेल फैक्ट्री के लगने से हरियाणा में रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे और युवाओं को इसका सीधा लाभ मिलेगा। फिलहाल रेल फैक्ट्री को लेकर वार्ता करने का माहौल बनाया जा रहा है। राज्य सरकार का मानना है कि आने वाले कुछ सालों के भीतर ही प्रदेश से बेरोजगारी समाप्त हो जाएगी। इस रेल फैक्ट्री के बाद रोहतक सहित आसपास के कई जिलों के युवाओं को रोजगार से जोड़ा जा सकेगा। इसके साथ ही रेल फैक्ट्री के चलते कई और उद्योग भी हरियाणा में स्थापित होंगे।

वहीं दूसरी ओर हरियाणा में मारुति कंपनी का बड़ा प्लांट लगाने की तैयारी शुरू हो गई है। सरकार ने मारुति उद्योग के लिए सोनीपत के खरखोदा में 900 एकड़ जमीन अलाट कर दी है। इस 900 एकड़ में से 800 एकड़ पर मारुति की कारें तथा 100 एकड़ पर मोटरसाइकिल बनाने का काम शुरू होगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मारुति उद्योग को 900 एकड़ जमीन एलॉट करने की घोषणा की है। हरियाणा सरकार का मानना है कि मारुति का यह बड़ा उद्योग लगने के बाद राज्य में बेरोजगारों को बड़े स्तर पर रोजगार हासिल होगा।


मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा इंटरप्राइजिज प्रोमोशन सैंटर की बैठक में सोनीपत के खरखौदा में लगभग 900 एकड़ भूमि पर मारुति का नया प्लांट स्थापित करने के लिए क्लीयरेंस दी गई है। इससे मारुति की प्रौडक्शन और बढ़ेगी जिससे प्रदेश में ऑटोमोबाइल सैक्टर को बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री गुरुग्राम के लोक निर्माण विश्राम गृह में हरियाणा इंटरप्राइजिज प्रोमोशन सैंटर की बैठक की अध्यक्षता करने उपरांत मीडिया से बातचीत कर रहे थे। प्रदेश के छोटे –बडे़ निवेशकों के साथ समय समय पर यह बैठक आयोजित की जाती हैं ताकि उनकी मांग व पॉलिसी के अनुसार उन्हें छूट दी जा सके।


मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कॉरपोरेट कंपनियों के प्रतिनिधियों से कहा कि वे CSR फंड को समाज के लिए कहीं भी खर्च कर सकते हैं लेकिन बेहतर होगा कि वे उस धनराशि को सरकार के साथ मिलकर लगाएं, इससे बेहतर परिणाम आएंगे। बैठक में ऐसे दो बड़े उद्योगों नामतः मारुति तथा ग्रासिम पेंट्स के साथ बातचीत करते हुए उन्हें पॉलिसी के अनुसार मंजूरी दी गई है। उन्होंने बताया कि मारुति द्वारा खरखौदा में लगभग 900 एकड़ जमीन पर प्लांट स्थापित करने को लेकर चल रही बातचीत को अंतिम रूप दिया गया है।


कंपनी के वरिष्ठ प्रबंधन के साथ इस बारे में विस्तार से विचार विमर्श हुआ है। यदि कंपनी 45 दिनों के भीतर तय की गई पूरी राशि जमा करवा देती है तो उसे पॉलिसी अनुसार कुल राशि पर 10 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। इसके साथ ही सरकार द्वारा कंपनी को 15 साल के लिए एसजीएसटी की रीइमब्रसमेंट दी गई है।उन्होंने कहा कि सरकार को प्राथमिकताओं का पता होता है, इससे प्रदेश में इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार होगा। वे गुरुग्राम में हरियाणा राज्य CSR ट्रस्ट द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। कार्यक्रम में गुरुग्राम व आसपास से 75 से ज्यादा कॉरपोरेट लीर्ड्स को आमंत्रित किया गया था।


हरियाणा में मारुति उद्योग का यह नया प्लांट लगने से पहले चर्चा जोरों पर थी कि मारुति हरियाणा छोड़कर गुजरात जा सकती है। परंतु हरियाणा सरकार ने मारुति प्रबंधन से वार्ता करके उन्हें हरियाणा में ही अपना नया प्लांट लगाने के लिए मना लिया। इसके चलते ही मारुति को सोनीपत के खरखोदा में 900 एकड़ जमीन बहुत ही सस्ती दर पर आवंटित की गई है। सरकार का मानना है कि इस नए प्लांट की स्थापना से हरियाणा को बहुत अधिक लाभ मिलेगा।