Jobs haryana news
आईआईटी और नीट के बाद अब इन छात्रों काे एनडीए की भी फ्री काेचिंग देगा शिक्षा विभाग
 
nda studnets

शिक्षा विभाग आईआईटी व नीट के बाद अब एनडीए में जाने के लिए भी विद्यार्थियाें काे फ्री काेचिंग देगा। जिन प्रतियोगी परीक्षाओं की काेचिंग लेने के लिए कम से कम  3 से 4 लाख तक का खर्च बड़े संस्थानाें में आता है, उस परीक्षा के लिए विभाग फ्री में काेचिंग देगा। लेकिन  विभागीय स्तर पर ली गई परीक्षा विद्यार्थियाें काे पास करनी हाेगी। इसके अलावा 3 तरह की स्काॅलरशिप व एक अवाॅर्ड के लिए भी बच्चाें की परीक्षा ली जाती है। 

सुपर-100 : कक्षा 10वीं सरकारी स्कूल से की हाे और 80 प्रतिशत या इससे ऊपर अंक हाेने चाहिए। साथ ही बच्चा 11वीं में भी सरकारी स्कूल में साइंस स्ट्रीम में पढ़ रहा हाे। रजिस्ट्रेशन जुलाई में करना हाेता है। अगस्त में प्रवेश परीक्षा हाेती है। लेवल वन व टू परीक्षा पास करने के बाद बच्चे काे सरकार जेईई व नीट की 2 साल फ्री काेचिंग देती है। स्कीम में 3 बच्चे जेईई एडवांस क्लियर कर चुके हैं। अभी इस सेशन में 7 नए बच्चाें का 2 साल की काेचिंग के लिए सिलेक्शन हुआ है।

सुपर एनडीए : छात्र सरकारी स्कूल में 11वीं व 12वीं में नाॅन मेडिकल से पढ़ रहा हाे। उसके पिछले कक्षा में नंबर 80 प्रतिशत तक हाेने चाहिए। रजिस्ट्रेशन जुलाई में मांगे जाते हैं। अगस्त में परीक्षा हाेती है। इसमें लेवल वन व टू की परीक्षा हाेती है। स्कीम का फायदा यह है कि एनडीए की फ्री काेचिंग बच्चाें काे सरकार दिलाएगी। इस सेशन में सरकारी स्कूलाें के 4 बच्चाें ने फ्री काेचिंग के लिए लेवल वन की परीक्षा के बाद लेवल टू की परीक्षा दी है। लेवल टू का रिजल्ट आना बाकी है। चयनित हाेने पर बच्चाें काे एनडीए में जाने के लिए फ्री काेचिंग मिलेगी।

बुनियाद: विद्यार्थी 9वीं कक्षा में सरकारी स्कूलाें में पढ़ रहा हाे। उनकी फ्री काेचिंग देने के लिए 2 लेवल की परीक्षा ली जाएगी। पहले लेवल में ब्लाॅक लेवल पर 300 से 400 विद्यार्थी चुने जाएंगे। दूसरे लेवल में जिला स्तर पर 100 से 125 विद्यार्थी सिलेक्ट किए जाएंगे। चयनित विद्यार्थियाें काे एक सेंटर पर अलग-अलग बैच बनाकर एनटीएसई परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए काेचिंग दी जाएगी।

एनटीएसई लेवल वन
सरकारी व प्राइवेट स्कूल के विद्यार्थियांे काे 10वीं कक्षा में जनरल कैटेगरी के लिए 60 प्रतिशत अंक हाेने चाहिए, जबकि रिजर्व कैटेगरी के लिए 5 प्रतिशत की छूट है। सितंबर-अक्टूबर में रजिस्ट्रेशन हाेती है। नवंबर-दिसंबर में परीक्षा ली जाती है। लेवल वन व टू की परीक्षा उत्तीर्ण करने पर बच्चे काे 11वीं व 12वीं में महीने की 1250 रुपए स्काॅलरशिप मिलती है। ग्रेजुएशन व पाेस्ट ग्रेजुएशन में हाेने पर 2 हजार रुपए अाैर पीएचडी में यूजीसी नियमाें के हिसाब से स्काॅलरशिप मिलती है।
एनएमएमएस (नेशनल मीन्स कम मेरिट स्काॅलरशिप)


बच्चा सरकारी स्कूल में 8वीं में पढ़ रहा हाे। जनरल कैटेगरी के बच्चाें के लिए 7वीं में 55 प्रतिशत अंक हाेने जरूरी है। रिजर्व कैटेगरी के बच्चे काे 5 प्रतिशत की छूट है। रजिस्ट्रेशन सितंबर-अक्टूबर में हाेते है। परीक्षा नवंबर-दिसंबर में हाेती है। इसमें एक बार ही परीक्षा ली जाती है। चयनित बच्चाें काे प्रतिमाह 12वीं कक्षा तक 1 हजार रुपए स्काॅलरशिप मिलेगी, लेकिन अागे स्काॅलरशिप लेने के लिए 9वीं व 11वीं में 55 प्रतिशत व 10वीं में 60 प्रतिशत अंक जनरल कैटेगरी के बच्चाें काे लेने हाेंगे, जबकि रिजर्व कैटेगरी काे 5 प्रतिशत छूट रहेगी।

विभाग के इन प्राेग्रामों का मेधावी विद्यार्थियों काे मिल रहा फायदा

इंस्पायर अवार्ड : इस अवाॅर्ड के लिए सरकारी व प्राइवेट स्कूलाें से 6वीं से 10वीं कक्षा तक के बच्चे लिए जाते हैं। जून-जुलाई से अक्टूबर तक रजिस्ट्रेशन हाेते हैं। नया इनाेवेटिस आइडिया सिलेक्ट हाेने पर बच्चे काे 10 हजार रुपए मिलते है। इसके बाद जिला, राज्य और नेशनल स्तर पर प्रदर्शनी हाेगी। राष्ट्र स्तर पर चुने गए 60 माॅडल के प्रतिभागियाें काे राष्ट्रपति से मिलने का माैका मिलता है। इसके अलावा जापान स्कूरा एक्सचेंज प्राेग्राम के तहत जापान जाने का भी माैका मिलता है। कई इंडस्ट्री बच्चाें के चुने गए आइडिया काे पेटेंट भी करती हैं। पूरे देश से 10 लाख तक आइडिया लिए जाते हैं। 2020 में प्राइवेट स्कूलाें के 9 बच्चाें काे अवार्ड मिला था। इस सेशन में अभी 430 बच्चाें के नाेमिनेशन सिलेक्ट हुए हैं।