Jobs Haryana

नर्सिंग कॉलेज मामला..हाईटेक अस्पताल को जारी हुआ नोटिस:3 दिन तक छात्राओं के इलाज के बाद भी प्रशासन को जानकारी नहीं दी; एक छात्रा की गई थी जान

स्तोगी नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं के बीमार होने के मामले में भिलाई नगर निगम ने हाईटेक अस्पताल को नोटिस जारी किया

 | 
रस्तोगी एजुकेशन सोसायटी द्वारा स्मृति नगर भिलाई में संचालित वेद हॉस्टल में रह रहीं 39 छात्राओं की तबीयत फूड पॉइजनिंग की वजह से चार दिन पहले बिगड़ गई थी

रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं के बीमार होने के मामले में भिलाई नगर निगम ने हाईटेक अस्पताल को नोटिस जारी किया है। नोटिस में कहा गया है कि तीन दिन तक इतनी छात्राओं का इलाज करने के बाद भी इसकी सूचना जिला प्रशासन या स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी गई। नोटिस में लिखा गया है कि यदि हॉस्पिटल प्रबंधन ने समय पर जानकारी दी होती इस मामले की तुरंत जांच कर अनहोनी को रोका जाता। निगम प्रबंधन ने हाईटेक अस्पताल प्रबंधन से तीन दिन के अंदर जवाब मांगा है।

रस्तोगी एजुकेशन सोसायटी द्वारा स्मृति नगर भिलाई में संचालित वेद हॉस्टल में रह रहीं 39 छात्राओं की तबीयत फूड पॉइजनिंग की वजह से चार दिन पहले बिगड़ गई थी। एक छात्रा की मौत भी हुई थी। कालेज प्रबंधन ने सभी छात्राओं को हाईटेक अस्पताल में भर्ती कराया था। तीन दिन तक इलाज करने के बाद भी कॉलेज प्रबंधन और हॉस्पिटल प्रबंधन ने मिलकर मामले को जिला प्रशासन से छिपाया। चौथे दिन सोमवार को मामले की जानकारी अधिकारियों को हुई।

इसके बाद कलेक्टर, एसपी, निगम आयुक्त, महापौर और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी हाईटेक अस्पताल पहुंचे और बच्चों का हाल जाना। फिर पुलिस ने जहां कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज किया तो वहीं नगर निगम प्रबंधन ने हाइटेक हॉस्पिटल संचालक, हॉस्टल संचालक, कॉलेज प्रबंधन और हॉस्टल बिल्डिंग के मालिक को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

वेद हॉस्टल जहां की छात्राएं हुईं बीमार

वेद हॉस्टल जहां की छात्राएं हुईं बीमार

अस्पताल को दिए नोटिस में निगम ने लगाया ये आरोप
नगर निगम ने हाईटेक अस्पताल को जो नोटिस जारी किया है उसमें अस्पताल प्रबंधन को कई मामलों में जिम्मेदार ठहराया है। नोटिस में लिखा गया कि जोन क्रं. 01 नेहरू नगर अन्तर्गत स्मृति नगर स्थित रस्तोगी नर्सग सोसायटी द्वारा संचालित वेद हॉस्टल में रह रही 39 छात्राओं की तबीयत खराब होने की सूचना मिली थी। इसके बाद उच्चाधिकारियों की उपस्थिति में पंचनामा किया गया। पंचनामा में पाया गया की उनके द्वारा विद्यार्थियों के लिए पेयजल हेतु जो वाटर कुलर का उपयोग किया जा रहा था वह खराब है। उसी वाटर कूलर के गंदे पानी पीने को पीने से सभी छात्राएं बीमार पड़ीं।

वेद हॉस्टल में वार्डन की अटेंडेंस डायरी के अनुसार 227 विद्यार्थी वहां रहते थे। इनमें से 39 को उल्टी दस्त की शिकायत हुई थी। इन सभी का हाईटेक मल्टी स्पेशलीस्ट हॉस्पिटल में 29 जुलाई से 31 जुलाई तक भर्ती करके उपचार किया गया। लगातार तीन दिन तक भर्ती रहने के बाद भी हॉस्टल प्रबंधन ने नगर निगम या जिला प्रशासन को सूचना नहीं दी। ऐसा करना नर्सिंग होम एक्ट का उल्लंघन है। ऐसा करके हॉस्टल में रह रही अन्य छात्राओं के स्वास्थ्य के साथ भी खिलवाड़ किया गया।

तीन दिन में सही सवाब न मिला तो रद्द होगा लाइसेंस
निगम ने नोटिस में चेतावनी दी है कि यदि तीन दिवस के भीतर इस गैर जिम्मेदारी व लापरवाही के संबंध में संतोषजनक स्पष्टीकरण नहीं मिला तो हॉस्पिटल का लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी।

भवन मालिक को भी जारी किया नोटिस
निगम ने सड़क नंबर तीन स्मृति नगर भिलाई निवासी रमेश मिश्रा और उनकी पत्नी विजय लक्ष्मी को नोटिस जारी किया है। उससे तीन दिन के भीतर जवाब मांगा गया है कि उनके द्वारा बिना निगम की अनुमति के अपने भवन का उपयोग व्यवसायिक रूप से किया जा रहा है। भवन को हॉस्टल संचालित करने के लिए किराया पर दिया गया है।

रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज नेहरू नगर

रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज नेहरू नगर

निगम ने रस्तोगी एजुकेशन सोसायटी के अध्यक्ष शशांक रस्तोगी निवासी नेहरू नगर पूर्व भिलाई को भी नोटिस जारी किया है। उनसे जवाब मांगा गया है कि वो बिना मानकों को पूरा किए अवैध तरीके से हॉस्टल का संचालन कैसे कर रहे थे। उनकी इस लापरवाही के चलते एक छात्रा की मौत हुई है और 39 छात्राएं बीमार हुई हैं। इनसे भी तीन दिन के अंदर जवाब मांगा गया है।

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like