Jobs Haryana

IRS Namita Sharma: लगातार 4 बार प्री एग्जाम में फेल होने पर नहीं मानी हार, ऐसी ही इंजीनियर से आईआरएस बनने की कहानी

UPSC Success Stories: हम सभी जानते हैं कि सफलता फाइनल नहीं है, असफलता घातक नहीं है लेकिन यह जारी रखने का साहस मायने रखता है और कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो असफलताओं का सामना करने के बाद भी अपने सपनों को नहीं छोड़ते. आज हम आपको ऐसी ही एक महिला आईएएस अधिकारी के बारे में बताएंगे, जिन्होंने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की परीक्षा पास करने से पहले लगभग सात साल के लंबे संघर्ष के बाद सफलता हासिल की.

 | 
IRS Namita Sharma: लगातार 4 बार प्री एग्जाम में फेल होने पर नहीं मानी हार, ऐसी ही इंजीनियर से आईआरएस बनने की कहानी

नमिता के मुताबिक यूपीएससी में सफलता पाने के लिए अच्छी स्ट्रेटजी और टाइम मैनेजमेंट बेहद जरूरी है. यदि वह एग्जाम पास नहीं कर पाता है तो निराश नहीं होना चाहिए. उन्होंने लिखा, “बस अपने आप को बेहतर बनाने के लिए प्रत्येक दिन पर ध्यान दें. आप अपनी एकमात्र प्रतियोगिता हैं. हर दिन बेहतर और बेहतर होता जाता है. आश्वस्त रहें कि यह आपका प्रयास है. प्रीलिम्स इस लंबे युद्ध की शुरुआत है जिसे आप जीतेंगे.”

वह इस बार और ज्यादा आश्वस्त हो गई. CSE 2018 में, उन्होंने ऑल इंडिया रैंक 145 हासिल की और IAS अधिकारी बनने के अपने सपने को पूरा किया.

नमिता ने अपने 5वें अटेंप्ट में आखिरकार प्री-टेस्ट क्लियर कर लिया और इंटरव्यू तक पहुंच गईं. हालांकि, वह एक छोटे से अंतर से फाइलन लिस्ट में जगह नहीं बना पाईं. परिणाम ने उन्हें निराश नहीं किया बल्कि उन्होंने इसे सकारात्मक रूप में लिया.

आपको जानकर हैरानी होगी कि नमिता लगातार चार बार प्री-एग्जाम में फेल हो गईं. उनके मुताबिक, उन्होंने परीक्षा के लिए काफी तैयारी की लेकिन सही दिशा में नहीं. उन्होंने कहा, "मैंने ग्रेजुएशन करने के बाद से ही सभी सरकारी परीक्षाएं देना शुरू कर दिया था और इसमें मैंने परीक्षा के बारे में जाने बिना UPSC में अपने शुरुआती तीन अटेंप्ट को खत्म कर लिया था." इसके बावजूद नमिता ने उम्मीद नहीं खोई और कड़ी मेहनत करती रहीं. इस दौरान वह धैर्य के साथ अपने लक्ष्य की ओर बढ़ती रहीं.

नमिता शर्मा ने इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन किया है. इसके बाद उन्होंने आईबीएम में दो साल तक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर काम किया. हालांकि, वह अपने काम से खुश नहीं थीं और यूपीएससी की तैयारी के लिए नौकरी छोड़ने का फैसला किया.

आईआरएस अधिकारी नमिता शर्मा ने पांच बार असफल होने के बाद भी हार नहीं मानी और अपने आखिरी प्रयास में सफलता हासिल की. आइए आपको बताते हैं उनकी सफलता की कहानी.

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like