Jobs Haryana

हरियाणा के इस जिले में हो रही IMT की स्थापना, हजारों युवाओं को मिलेगा रोजगार

हरियाणा के अंबाला शहर में इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप आईएमटी स्थापित करने की कार्रवाई शुरू हो गई है. इसके लिए अंबाला हिसार रोड पर जमीन अधिग्रहण करने की प्रक्रिया चल रही है एक पोर्टल के जरिए IMT के लिए जमीन देने वाले किसानों से आवेदन मांगे जा रहे हैं
 | 
हरियाणा के इस जिले में हो रही IMT की स्थापना, हजारों युवाओं को मिलेगा रोजगार

हरियाणा के अंबाला शहर में इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप आईएमटी स्थापित करने की कार्रवाई शुरू हो गई है. इसके लिए अंबाला हिसार रोड पर जमीन अधिग्रहण करने की प्रक्रिया चल रही है एक पोर्टल के जरिए IMT के लिए जमीन देने वाले किसानों से आवेदन मांगे जा रहे हैं

काफी किसान IMTके लिए अपनी जमीन देने के लिए आवेदन कर भी चुके हैं. प्रशासन की ओर से जल्द ही अधिकारिक तौर पर इसका पूरा ब्यौरा सार्वजनिक करने की बात कही जा रही है. योजना के लिए शुरुआत में 400 एकड़ जमीन अधिग्रहण करने का लक्ष्य रखा गया है.

राज्य सरकार ने दी थी मंजूरी

कुछ समय पहले ही सीएम मनोहर लाल ने अंबाला शहर में IMT स्थापित करने की घोषणा की थी हालांकि तत्कालीन कांगरे सरकार ने भी अंबाला में IMT स्थापित करने का ऐलान किया था इसके लिए अंबाला नारायणगढ़ रोड पर जमीन अधिग्रहण करने की कार्रवाई भी शुरू हो गई थी. तत्कालीन मंत्री विनोद शर्मा ने सबसे पहले यहां IMT स्थापित करने की मांग की थी योजना को मंजूरी के बाद किसानों ने इसका विरोध किया था. तब पूर्व मंत्री कुमारी शैलजा भी अपनी ही सरकार के खिलाफ योजना के विरोध को लेकर मैदान में उतर गई थी.

तब उनका तर्क था कि वे आईएमडी की विरोध नहीं कर रही है. IMT उपजाऊ जमीन की बजाय बंजर जमीन पर स्थापित होनी चाहिए. उनका कहना था कि पंजोखरा व आसपास की जमीन उपजाऊ है बड़े विरोध के बाद सरकार ने योजना को वापस ले लिया था.

कांग्रेस से अलग होने के बावजूद पूर्व मंत्री विनोद शर्मा लगातार IMT के मुद्दे को उठाते रहे थे खुद सीएम मनोहर लाल के आईएमटी की घोषणा के बाद उन्होंने उनका आभार भी जताया था.

आईएमटी स्थापित हुई तो खुलेगा रोजगार का नया अवसर

अभी IMT के लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है किसान भी अपनी जमीन देने के लिए दिलचस्पी दिखा रहे हैं. मगर अभी सरकार की ओर से IMT की प्रक्रिया किसानों के सामने पेश नहीं की गई है.

ज्यादातर किसानों को यह बात मालूम ही नहीं है कि अधिग्रहण होने वाली जमीन की एवज में उन्हें कितना मुआवजा मिलेगा यह बात सार्वजनिक होने के बाद ही आईएमटी का रास्ता साफ हो जाएगा हालांकि है.

पूरी तरह स्पष्ट है कि अगर यहां आईएमटी स्थापित हुई तो युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर खुल जाएंगे अभी युवाओं को शहर से बाहर रोजगार के लिए जाना पड़ता है.

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like