Jobs Haryana

बीवी को संतुष्ट रखने के लिए आपके पास होने चाहिए कुत्ते के ये पांच गुण, जानिए कौन से हैं वो खास गुण

 | 
बीवी को संतुष्ट रखने के लिए आपके पास होने चाहिए कुत्ते के ये पांच गुण

Chanakya Niti For Relationship: आचार्य चाणक्य महान ज्ञानी होने के साथ ही एक अच्छे नीतिकार भी थे। उन्होंने अपनी नीति में कई प्रकार के जानवरों के उदाहरण देकर भी मनुष्य को महत्वपूर्ण बातें समझाने का प्रयास किया है. चाणक्य के अनुसार प्रत्येक जानवर से मनुष्य को कुछ ना कुछ सीख लेकर सफलता के मार्ग पर आगे बढ़ना चाहिए.

आचार्य चाणक्य ने अपनी पुस्तक नीति शास्त्र में बताया है कि जहां स्त्रियों को एक कौवे की तरह होना चाहिए.  वहीं पुरुषों को एक कुत्ते की तरह होना चाहिए. अगर कुत्ते के यह 5 गुण किसी भी मनुष्य में होते हैं तो वह अपनी पत्नी को सदा ही संतुष्ट रखता है.  परिवार की सभी जिम्मेदारियों को अच्छे से निभाता है. तो चलिए आज हम बताएंगे कि कुत्तों की इन पांच आदतों के बारे में.

थोड़े में ही राजी होना

आचार्य चाणक्य ने बताया है कि किसी भी मनुष्य को यथाशक्ति के मुताबिक ही कार्य करना चाहिए. कार्य करने के बाद जो भी धन कमाया जाए, उसी में संतुष्ट रहकर अपने परिवार का पालन पोषण करना चाहिए. जो पुरुष थोड़े धन से संतुष्ट होकर परिवार का पेट पालता है, वहीं सर्वश्रेष्ठ पुरुष होता है. दोस्तों कुत्ता भी थोड़ा सा प्राप्त करने के बाद ही संतुष्ट हो जाता है. उसी प्रकार पुरुषों को जितना भी प्रेम से मिले उसे उतना ही स्वीकार करना चाहिए.

हमेशा चौकन्ना रहना

अक्सर आपने देखा होगा कुत्ता गहरी नींद में होने के बाद भी हमेशा सतर्क रहता है. चाणक्य का मानना है कि उसी प्रकार पुरुषों का भी कर्तव्य है कि वह अपने परिवार और अपने कार्यों के लिए सदा सतर्क रहें. शत्रुओं से सदा सावधान रहें. चाहे कितनी भी गहरी नींद में क्यों ना हो. अपने परिवार के संरक्षण के लिए सदा ही तत्पर रहना चाहिए. ऐसे पुरुष से जो इस्त्री विवाह करती है, वह सदा ही खुश रहती है। 

अपने परिवार को कभी धोखा ना देना 

कहते हैं कुत्ता एक वफादार प्राणी है.  वह अपने मालिक के प्रति सदा वफादार रहता है. उसी प्रकार पुरुष को भी अपनी पत्नी के प्रति वफादार रहना चाहिए.

अपने पार्टनर को हमेशा संतुष्ट रखना

 एक पुरुष को चाहिए कि वह अपनी पत्नी को शारीरिक सुख के मामले में सदा संतुष्ट रखें. अगर स्त्री को शारीरिक संतुष्टि मिलती है तो वह कभी पथ भ्रष्ट नहीं होती. स्त्री को अपने पति से संतुष्टि के लिए शारीरिक सुख की कामना होती है.

अगर कोई पुरुष अपनी पत्नी को संतुष्ट नहीं कर पाता तो वह स्त्री पराए पुरुष से संबंध बना सकती है। अत प्रत्येक पुरुष का दायित्व है कि वह अपनी पत्नी को संतुष्ट रखे। नहीं तो आजकल के पुरुष पत्नी के होते हुए भी पराई स्त्रियों के प्रेम जाल में फस जाते हैं और उनसे संबंध बनाते हैं. जिस स्त्री का पति एक कुत्ते की तरह वफादार होता है वह स्त्री सदा ही सुखी और आनंदित रहती है.

पार्टनर की हमेशा रक्षा करना

चाणक्य के मुताबिक कुत्ता अपने मालिक की रक्षा करने के लिए अपने प्राण भी दांव पर लगा देता है. उसी प्रकार अगर किसी स्त्री का पति भी अपने परिवार और अपने पार्टनर की रक्षा करने के लिए अपने प्राणों की चिंता ना करता हो तो ऐसी स्त्री भाग्यशाली औरतों में गिनी जाती है. क्योंकि उसे एक बहादुर पति मिलता है. इसलिए प्रत्येक पुरुष को अपने परिवार की जिम्मेदारियों को समझकर अच्छे से निभाना चाहिए। व्यर्थ के झगड़ों में नहीं उलझना चाहिए। 

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like